India Short Film

अमिताभ बच्चन सहित कई सितारों ने लॉकडाउन पर शार्ट फिल्म बनायी। यहाँ देखे फिल्म

Entertainment

भारत के अलग-अलग फिल्म उद्योगों के अभिनेताओं और अभिनेत्रोयों ने एक शार्ट (लघु) फिल्म बनायी है जो कि कोरोनोवायरस महामारी के दौरान एक अनूठी पहल है।

कौन हैं कलाकार?

इस शार्ट फिल्म का नाम दिया गया है ‘फैमिली’, जिसकी परिकल्पना और निर्देशन प्रसून पांडे ने किया है। इसमें अमिताभ बच्चन, रणबीर कपूर, आलिया भट्ट, प्रियंका चोपड़ा और हिंदी सिनेमा के दिलजीत दोसांझ, तमिल सिनेमा के रजनीकांत, मलयालम सिनेमा के मोहनलाल और ममूटी, तेलुगु सिनेमा के चिरंजीवी, कन्नड़ सिनेमा के शिवा राजकुमार, बंगाली सिनेमा से प्रोसेनजीत चटर्जी और मराठी सिनेमा से सोनाली कुलकर्णी है।

‘फैमिली’ की शुरुआत अमिताभ के साथ उनके धूप के चश्मे की तलाश से शुरू होती है, और उपरोक्त कलाकारों में से प्रत्येक ने उस चश्मे को ढूंढ़ने का अभिनय प्रस्तुत किया है। अंत में, प्रियंका उन्हें उनके पास ले जाती है और पूछती है कि उन्हें चश्मे की आवश्यकता क्यों थी। अमिताभ जी कहते हैं “मुझे इन धूप के चश्मे की ज़रूरत थी क्योंकि मुझे उनकी ज़रूरत नहीं है। मैं कुछ दिनों के लिए घर से बाहर नहीं जा रहा हूँ। यदि यह इधर उधर पड़ा होगा, तो यह खो जाएगा। और अगर यदि यह खो जाता, तो आप सभी को इसे खोजना पड़ता। अब, मैं आप सभी को क्यों परेशान करूँ?”

अमिताभ बच्चन का संदेश

इस शार्ट फिल्म के अंत में, अमिताभ ने एक विशेष संदेश भी दिया और दर्शकों को कोरोनावायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए घर के अंदर ही रहने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा “हम सभी ने मिलकर यह फिल्म बनाई और इसको बनाने के लिए लेकिन हममें से कोई भी अपने घरों से बाहर नहीं निकला। हर कलाकार ने अपने घर में अपने स्वयं के रोल की शूटिंग की। आप भी कृपया घर के अंदर रहें। इस खतरनाक कोरोनावायरस से खुद को सुरक्षित रखने का यही एकमात्र तरीका है। घर में रहो, सुरक्षित रहो”।

“इस फिल्म को बनाने का एक और कारण है। भारतीय फिल्म उद्योग एक है, हम सभी एक परिवार हैं। लेकिन हमारे पीछे एक और बड़ा परिवार है जो हमारा समर्थन करता है और हमारे साथ काम करता है, और वह है हमारे कार्यकर्ता और दैनिक वेतन भोगी, जो लॉकडाउन के कारण बहुत कठिनाई का सामना कर रहे हैं। हम सभी एक साथ आए हैं और फंड जुटाने के लिए प्रायोजकों और टीवी चैनल के साथ मिलकर काम किया है। यह फंड हमारे कार्यकर्ताओं और दैनिक वेतन भोगियों को वितरित किया जाएगा ताकि उन्हें इस कठिन समय में कुछ राहत मिल सके।” उन्होंने कहा।

अमिताभ ने एक आशावादी नोट पर समाप्त किया और कहा, “डरो मत। घबराओ मत। सुरक्षित रहना। यह भी गुजर जाएगा। यह काले बादल गुजरेंगे। नमस्ते। “।।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *