मजदूर और किसान राहत पैकेज

मजदूर और किसान के लिए क्या है सरकार की पोटली में। जानिए यहाँ

Trending

वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमन और वित्त राज्य मंत्री (राज्य) श्री अनुराग ठाकुर ने प्रवासी मजदूर और किसानों पर महामारी के प्रभाव को कम करने के लिए दी सौगात। प्रधानमंत्री मोदीजी द्वारा आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए दिए गए 20 लाख करोड़ रूपए के आर्थिक पैकेज में से MSME सेक्टर को कल दी गयी सुविधा के बाद आज प्रवासी मजदूर, किसान, सड़क श्रमिकों के लिए पैकेज का एलान किया गया।

इस बड़े पैकेज में से एक पैकेज सड़क श्रमिक के लिए, तीन पैकेज संबंधित प्रवासी मजदूर, एक शिशु ऋण, एक ग्रामीण क्षेत्र में रोजगार सृजन और दो पैकेज छोटे किसानों के लिए दिए गए।

श्रीमती निर्मला सीतारमनजी ने कहा भले ही lockdown रहा हो, सरकार ने लगातार मजदूर और किसान के हित के लिए काम किया है। नाबार्ड ने ग्रामीण बैंकों को 29500 करोड़ रुपए का लोन दिया है।

यह भी पढ़ें: Lose Weight At Home – वजन कम करने के लिए घरेलू उपाय

शहरी गरीबों के लिए

  • सरकार ने राज्यों को निर्देश दिए हैं कि स्टेट डिजास्टर फंड का इस्तेमाल कर, प्रवासी मजदूरों (जो पलायन कर रहे हैं) को खाना और रहने की सुविधा दी जाये। जिसका बजट लगभग 11000 करोड़ है।
  • 15 मार्च 2020 से अब तक 7200 नए सेल्फ हेल्प ग्रुप बनाये गए हैं। इन ग्रुप्स ने एक लाख बीस हज़ार  लीटर sanitizer और तीन करोड़ मास्क बनाये। नये सेल्फ हेल्प ग्रुप्स बनाये जायेंगे और उनके रोजगार को बढ़ाने में मदद कि जाएगी।

प्रवासी मजदूर के लिए

  • प्रवासी मजदूर जो अपने राज्य में लौट रहे हैं, उन्हें मनरेगा के तहत काम और पैसा दिया जायेगा। इसमें अब तक दस हज़ार करोड़ रुपए खर्च किये गए हैं। लगभग २ करोड़ से ज्यादा प्रवासी मजदूरों को इस lockdown में काम मिला है।
  • 8 करोड़ प्रवासी मजूरों के लिए 3500 करोड़ का प्रावधान जिसमें सभी मजदूरों को अगले दो महीने तक मुफ्त अनाज दिया जायेगा। एक परिवार को उन्हें 5 किलो चावल या गेहू और 1 किलो चना मुफ्त दिया जायेगा।
  • एक राष्ट्र एक राशन कार्ड की व्यवस्था की गई है। इसके तहत पुरे देश में किसी भी राशन डिपो से अनाज लिया जा सकेगा।
  • पहले मनरेगा का न्युनतम वेतन 182 था जो बढ़ाकर 202 किया गया था।
  • रेंटल हाउसिंग योजना के तहत सरकार द्वारा मजदूरों के लिए घरों का निर्माण किया जायेगा। जिनका किराया भी कम लिया जायेगा। इस योजना को प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत लाया जायेगा।
  • जिन संस्थानों में 10 से कम लोग काम कर रहे हैं, वहाँ ESIC लागू किया जायेगा।
  • खतरे वाली जगह पर काम करने वालो के लिए ESIC मैंडेट किया जायेगा और सेफ्टी कोड भी लाया जायेगा।
  • मजदूरों की कौशलता को बढ़ाया जायेगा।
    न्युनतम वेतन को बढ़ाया जायेगा।
  • नियुक्ति पत्र भी सभी मजदूरों को मिलेंगे।
  • मजदूरों का साल में एक बार हेल्थ चेकअप कराया जायेगा।

यह भी पढ़ें: पैसे कैसे बचाएँ, कैसे करें बचत? जानिये सरल उपाय

किसानों के लिए

  • किसान को २५००० तक के लोन का प्रावधान
  • २५००० करोड़ के किसान क्रेडिट कार्ड का एलान

मजदूर और किसान राहत पैकेज

वित्त मंत्री ने कहा, पिछले तीन महिनों मे तीन करोड़ किसानो को 86600 करोड़ रुपए का लोन दिया गया है और 25 लाख किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड दिए गए।

सड़क श्रमिक (Street Vendor) के लिए

  1. 50 लाख सड़क श्रमिकों को 10000 रुपए प्रति व्यक्ति दिए जायेंगे। कुल 5000 करोड़ रुपए का इसका बजट होगा।
  2. इसके लेनदेन के लिए डिजिटल पेमेंट करने पर फायदा दिया जायेगा।

मुद्रा शिशु लोन खातेदारों के लिए

मुद्रा शिशु लोन खातेदारों को ब्याज में २ प्रतिशत की छूट दी गयी।

https://www.facebook.com/whatablog/

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *