shayari on life

Shayari on Life : क्या भरोसा ज़िंदगी, फिर ये मौका लाये

Shayari-on-Life शायर – अक्स क्या हो जब धड़कन को, दिल से नफरत हो जाये क्या हो जब सितारों में, आकाश खो जाये ज्यादा नहीं हंसना मेरी मौत पे ऐसा न हो मुस्कान, पलकें भीगो जाये होगा क्या जो बादल अंगारों को बरसाए होगा क्या जो मौत की जान निकल जाये चाहतें अमर हैं उन जन्नतों […]

Read More
Love Shayari

Love Shayari: कहते थे जिसको जान, वो अंजान हो गयी

Love Shayari शायरी: कहते थे जिसको जान, वो अंजान हो गयी कवि: अक्स अच्छा हुआ जो प्यार से पहचान हो गयी कहते थे जिसको जान, वो अंजान हो गयी साथ उसके महफ़िल था, हर लम्हा ज़िन्दगी का कमी से उसके ज़िन्दगी, शमशान हो गयी कहते थे जिसको जान, वो अंजान हो गयी…. अरमां किये पूरे, […]

Read More
sad shayari

Sad Shayari – हो गयी है आदत – अक्स

Sad Shayari – हो गयी है आदत शायर – अक्स ना मेरी मंज़िल दुआ करती है , ना ही राहें इबादत हर सफर में इम्तिहानों की, हो गयी है आदत इन्तहा हो चली है, तेरे दीदार-ए-अब्र की इक नज़र देखे तुझे, हो गयी है मुद्दत हर सफर में इम्तिहानों की, हो गयी है आदत ख्वाबों […]

Read More
Sad Shayari - Tumko Dhundh -Aks

Sad Shayari by Aks: तुमको ढूंढ न पाए मन

Sad Shayari by Aks – तुमको ढूंढ न पाए मन कवि: अक्स कशीश ये मेरे अश्क़ों की, यादों की कड़वी चुभन हो जाओ तुम इतने दूर, तुमको ढूंढ न पाए मन तेरा आँचल छोड़ दिया, मुझको बरसों बीत गए अँधेरी ख़ामोशी में, खो अब मेरे गीत गए प्यार का हर बीता लम्हा, विनती करता और […]

Read More
जीवनपथ

Hindi Poetry: काव्य – जीवनपथ – अक्स

Hindi Poetry काव्य – जीवनपथ कवि – अक्स जीवनपथ हर कदम पर, एक नया अनुभव कराता है ना जाने क्यों ये मानव, उस कदम से घबराता है कुछ आंसू कुछ बाहें, पथ में मील के पत्थर हैं देखो ये एहसास तुम्हे अब, कौन सी राह दिखाता है जीवनपथ हर कदम पर, एक नया अनुभव कराता […]

Read More
Poetry Aks

काव्य: एक ख़्वाइश है ज़िन्दगी से – अक्स

एक ख़्वाइश है ज़िन्दगी से, तू मेरे पास हो देखूं तुझे जी भरकर, प्यार का एहसास हो जिस पल मिलेगी तू मुझे, मुझसे तू इकरार करे दुनिया ये छोड़कर सारी, सिर्फ मुझसे प्यार करे तेरे प्यार का दिल में मेरे, हर्ष और उल्लास हो एक ख़्वाइश है ज़िन्दगी से, तू मेरे पास हो…. स्पर्श करे […]

Read More
Love Poetry

काव्य : तेरी हर ख़्वाइश को, पलकों पर बैठाना चाहता हूँ – अक्स

प्यार की दहलीज़ पर, सपनों का दीप जलाना चाहता हूँ ऐ जान तेरी हर ख़्वाइश को, पलकों पर बैठाना चाहता हूँ तेरा ख़्याल दिल से नहीं जाता, तुझे छूने की इज़ाज़त नहीं मिलती मैं तो दूर से ही तुझपर, प्यार का अमृत बरसाना चाहता हूँ ऐ जान तेरी हर ख़्वाइश को, पलकों पर बैठाना चाहता […]

Read More